आपको जिस Subject की PDF चाहिए उसे यहाँ Type करे

HCF Calculation Method



HCF Calculation Method

HCF Calculation Method:- नमस्कार दोस्तों, आप सभी का Govt Job Notes पर स्वागत है. आज हम आपके साथ HCF Calculation Method, How To Find Hcf Quickly, Hcf Examples, Hcf By Short Division Method, Hcf By Prime Factorization महत्वपूर्ण प्रश्न शेयर कर रहे है. हमारी HCF Calculation Method आपके विभिन्न प्रतियोगिता परीक्षाओ में बहुत काम आएगी जैसे SSC CGL, MTS, CPO, RAS, UPSC, IAS and all state level competitive exams.

HCF Calculation Method

We share very useful and Important Hcf Of 24 And 36, Hcf By Division Method For Class 6, Hcf By Division Method For Class 4, What Is Hcf.
Note:- हमने आपकी सुविधा के लिए निचे अलग अलग विषयों के लिंक दिए है जहां हर विषय की 50 से 60 PDF Free Download के लिए दी गई है.
Note:- पिछले 6 महीने में सबसे ज्यादा डाउनलोड की गई पीडीऍफ़:-

Most Important General Knowledge Questions

 No.-36. कौन सा कथन गलत है?

1. पांड्य वंश की राजधानी मदुरई थी।
2. चेरों की राजधानी वंशी थी।
3. विदेह राज्य की राजधानी मिथिला थी।
4. कोई नहीं
Solution: 4 [कोई नहीं]
Explanation: सभी कथन सत्य हैं।
No.-37. ऋग्वेद का एक मंडल किसके लिए समर्पित है?
1. अग्नि
2. वरुण
3. इंद्र
4. सोम
Solution: 4 [सोम]
No.-38. विक्रमशिला विश्वविद्यालय किस गांव में था?
1. अंतीचक
2. बसार
3. चंदिमानु
4. इनमें से कोई नहीं
Solution: 1 [अंतीचक]
Explanation: विक्रमशिला विश्विद्यालय प्राचीन भारत का एक श्रेष्ठ विश्विद्यालय था। इसकी स्थापना पाल राजा धर्मपाल ने की। इसे बख्तियार खिलजी ने नष्ट किया था।
No.-39. महायान बौध्द धर्म ग्रंथों में भविष्य बौद्ध किसे कहा गया है?
1. क्रकुचन्द
2. अमिताभ
3. मैत्रेय
4. कनक मुनि
Solution: 3 [मैत्रेय]
Explanation: बौध्द धर्म के महायान पंथ की पुस्तकों में भविष्य में शाक्यमुनि बौध्द के उत्तराधिकारी मैत्रेय को बताया गया है।
No.-40. किन दो वंशों ने राष्ट्रकूटों के साथ उत्तर भारत का राज्य सम्भाला?
1. प्रतिहार और परमार
2. प्रतिहार और चंदेल
3. प्रतिहार और चोल
4. प्रतिहार और पोल
Solution: 4 [प्रतिहार और पोल]
Explanation: 8वीं सदी के राजपूत काल में भारत में 3 वंश प्रमुख थे। उत्तर भारत में गुर्जर प्रतिहार, बंगाल में पाल वंश तथा दक्कन में राष्ट्रकूट वंश था।

No comments:

Post a comment